मंदिर के बीच पवित्र स्थान के दोनों ओर ठेका देशी शराब की दुकान सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को दिखा रही ठेंगा

मंदिर के बीच पवित्र स्थान के दोनों ओर ठेका देशी शराब की दुकान सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को दिखा रही ठेंगा

0

मंदिर के बीच पवित्र स्थान के दोनों ओर ठेका देशी शराब की दुकान सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को दिखा रही ठेंगा

रिपोर्ट:-आशुतोष शुक्ला

ब्यूरों चीफ़ सीतापुर

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को ठेंगा दिखाते हुए आबकारी विभाग ने सीतापुर कस्बा खैराबाद मोहल्ला जोशी टोला चौराहे पर दो मंदिरों के बीच में देसी शराब की दुकान खोलने की अनुमति दे दी है। शराब की दुकान खुलने से लोगों में रोष व्याप्त है।उसी रास्ते पर बुनियाद डिग्री कॉलेज बना है जहां बच्चे पढ़ने जाते हैं वही मंदिर पर लोग दारू पीकर मंदिर पर ही बैठकर मांस और मछली का भी सेवन करते हैं रास्ते में आने-जाने वालों को भद्दी भद्दी गालियां देते हैं।
सर्वोच्च न्यायालय ने कुछ माह पूर्व एक आदेश जारी किया था। जिसके मुताबिक राष्ट्रीय राजमार्ग,धार्मिक स्थल व स्कूल के समीप स्थित शराब की दुकानों को वहां से हटाया जाना था। इस आदेश के बाद निर्धारित अवधि पूरी होने पर हाईवे में स्थित दुकानें या तो शिफ्ट कर दी गई। जिन दुकानों को हाईवे से दूर स्थान नहीं मिल पाया वे बंद हो गई। अभी भी खैराबाद मोहल्ला जोशी टोला चौराहे पर दो मंदिरों के बीच में देसी शराब की दुकान बुनियाद डिग्री कॉलेज के पास स्थित है,क्योंकि ये दुकान मोहल्ले में खोलने पर विरोध का सामना करना पड़ रहा है। हैरत की बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों के बावजूद सीतापुर कस्बा खैराबाद मोहल्ला जोशी टोला चौराहे के दो मंदिरों के बीच मार्ग पर निर्देशों की अनदेखी करते हुए विभाग ने देसी शराब की दुकान खोलने की अनुमति दे दी।

शराब की दुकान के सौ मीटर की परिधि में पूजा-अर्चना के लिए पंजीकृत मंदिर,अस्पताल व स्कूल नहीं होना चाहिए। विभाग ने मानकों के पूरा न मिलने पर ही दुकान खोलने की अनुमति दी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Translate »